बेकिंग पाउडर और बेकिंग सोडा के बीच के अंतर

जानिए बेकिंग पाउडर और बेकिंग सोडा के बीच के अंतर

बेकिंग पाउडर और बेकिंग सोडा अमूमन हर रसोई में होते है। हम में से कई इसके बीच के अंतर से अच्छे से वाक़िफ़ है और कई ऐसे है जिन्हें इनके बीच का अंतर तो नहीं पता पर कहाँ किसे इस्तेमाल करना है ये भली-भाँति पता है। दरअसल ये दोनो ही राइज़िंग एजेंट यानी की वो प्रतिनिधि होते है जो किसी भी व्यंजन को पकाने के पहले उसमें मिलाने पर उसे फुलाने और नरम बनाने का काम करते है।आइए आज जानते है बेकिंग सोडा और बेकिंग पाउडर के बीच के तार्किक और प्रयोगात्मक अंतर। 

पहले बात करते है बेकिंग पाउडर की-

  • रंग- सफ़ेद
  • दशा- पाउडर 
  • स्पर्श- चिकना, महीन जैसे मैदा, कॉर्नफ़्लोर या टैल्कम पाउडर का होता है।
  • कार्य प्रणाली- नमी के संपर्क में आते ही काम करना शुरू कर देता है। 
  • कैसे बनता है- आमतौर पर किसी भी बेकिंग पाउडर के तीन हिस्से होते है; क्रमशः एसिड, बेस, और किसी भी तरह का फिलर। ध्यान देने वाली बात यह है की ये तीनो ही सूखे पाउडर के रूप में होते है। इनमें से – 

एसिड = क्रीम ऑफ़ टार्टर ( Cream of tartar)

बेस = सोडियम बाईकार्बोनेट (Sodium Bicarbonate)

फिलर = कॉर्नफ्लोर (Corn Floor)जब एसिड और बेस आपस में मिलते है तो प्रतिक्रिया शुरू होती है।

यहाँ पर क्रीम ऑफ़ टार्टर और सोडियम बाईकार्बोनेट के मिलते ही कार्बन-डाई-ऑक्साइड से बुलबुले बनने लगते है। 

कितनी तरह का होता है?

2 तरह का होता है

  1. सिंगल एक्टिंग – यह भीगते ही काम शुरू कर देता है। पानी, दही, छाछ, निम्बू का रस आदि किसी भी तरह के तरल पदार्थ के संपर्क में आते ही इसमें बुलबुले बनने लगते है। घोल बनाने के बाद तुरंत पकाने रख रहे है तो इसका उपयोग करे। 
  2. डबल एक्टिंग- यह गरम होने पर अपना काम शुरू करता है। 

किन व्यंजनों में उपयोग में लिया जा सकता है- केक, कुकीज़, इंस्टेंट जलेबी, बिस्किट्स, मफिन्स, नानखटाई, लाडी पाव, फलाफल, अनियन रिंग्स, ब्राउनी, बिना तला हुआ दहीवड़ा, नान, कुल्छे, रोल्स, आदि।  

ऑनलाइन खरीदने के लिए यहाँ जाये-

  1. Weikfield Baking Powder,
  2. 100g BAKE KING Baking Powder,
  3. 100gLeaf & Nectar Premium Aluminum-Free Baking Powder | Double Acting, Vegan, Gluten-Free –
  4. 250gIndiana Baking Powder (Natural),
  5. 250gmUrban Platter Aluminum-Free Baking Powder,
  6. 250g [Double Acting, Vegan, Gluten-Free]

अब जानते है बेकिंग सोडा के बारे में-

रंग- सफ़ेद

दशा- पाउडर 

स्पर्श- दरदरा, दानेदार

कार्य प्रणाली- वैसे तो यह भी नमी के संपर्क में आते ही काम करना शुरू कर देता है; परन्तु बेकिंग सोडा को सक्रीय (active) होने के लिए दही, छाछ जैसे खट्टे पदार्थो जरुरत। यह प्रोटीन का विभाजन कर के एसिड को प्रभावहीन (deactivate) कर देता है। चूँकि नमी के संपर्क में आते ही यह काम शुरू कर देता है इसीलिए इसे सामग्री के साथ मिलाते ही तुरंत पकने रख देना चाहिए अन्यथा व्यंजन ठीक से फूलेगा नहीं। 

क्या होता है- इसे ही सोडियम बाईकार्बोनेट, मीठा सोडा, कुकिंग सोडा, खाना सोडा आदि के नाम से जाना जाता है। 

किन व्यंजनों में उपयोग में लिया जा सकता है- खट्टा ढोकला, इडली, केक, पकोड़ा, भटूरे, आदि।

ऑनलाइन खरीदने के लिए यहाँ जाये-

  1. Fitness Mantra Baking Soda Pouch, 250 g
  2. Urban Platter Baking Soda, 250g
  3. Nature Purify: Baking Soda | uses for Cleaning face Skin Teeth whitening Cooking Eating 400gm
  4. Desire Baking Soda Jar 1 Kg
  5. Food Essential Baking Soda, 250 g

ध्यान देने योग्य-

  1. बेकिंग सोडाकी जगह बेकिंग पाउडर का प्रयोग किया जा सकता है। चार गुना बेकिंग पाउडर का उपयोग कर के आप बेकिंग सोडा की कमी पूरी सकर सकते है। 
  2. अधिक मात्रा में डाला गया बेकिंग पाउडर व्यंजन खारा कर सकता है। 
  3.  बेकिंग पाउडरकी जगह बेकिंग सोडा का प्रयोग नहीं किया जा सकता है।
  4. बेकिंग सोडा का प्रयोग आप त्वचा की रक्षा और निखार के लिए भी कर सकते है।  

तो ये था बेकिंग पाउडर और बेकिंग सोडा बीच का अंतरयह #फूड़ब्लॉग कैसा लगा कमेंट बॉक्स में ज़रूर बताईयेगा। अच्छा लगे तो अपनों बीच शेयर करियेगा। जल्दी मिलते है नए फूड़ब्लॉग के साथ,  तब तक प्यार पकाइये और प्यार परोसिए 😍  

0
0

One Comment on “बेकिंग पाउडर और बेकिंग सोडा के बीच के अंतर”

Leave a Reply

Your email address will not be published.